प्रोजेक्ट मलाला: खूबसूरती के साथ अंजाम दिया गया प्लांटेड प्रोजेक्ट

गिरीश मालवी

वोग को दिए हुए इंटरव्यू के बाद पाकिस्तान की मलाला युसुफजई फिर से एक बार चर्चा में है खास तौर पर उसका यह बयान खूब सुर्खियां बटोर रहा है जिसमे उसने कहा है कि ”मैं अभी भी नहीं समझ पाई हूं कि लोग क्यों शादी करते हैं। यदि आप किसी को अपनी जिंदगी में चाहते हैं, तो आपको शादी के पेपरों पर साइन करने की क्या जरूरत है, यह सिर्फ एक पार्टनरशिप क्यों नहीं हो सकती है?” वह इसके लिए लिवइन शब्द भी चुन सकती थी लेकिन उसने पार्टनरशिप शब्द को चुना दरअसल ‘पार्टनरशिप’ एक व्यापक अर्थ वाला शब्द है अगर इसे पश्चिमी संस्कृति से सम्बंधित अर्थ में लिया जाए तो इसमे न केवल साधारण स्त्री पुरूष सम्बंध शामिल हैं बल्कि लेस्बियन, गे, बाइसेक्सुअल ओर ट्रांसजेंडर्स के बीच सम्बन्ध भी शामिल हैं जिन्हें सम्मिलित रूप से LGBT कहा जाता है।

ऊपर जो आप हेडिंग देख रहे हैं वह मेरा दिया गया हेडिंग नही है वह एक पाकिस्तानी लेखक ज़की ख़ालिद के लेख से लिया गया है उस लेख का शीर्षक है ‘Project Malala’: The CIA’s Socio-Psychological Intelligence Operation कमाल की बात यह है कि यह लेख उन्होंने 15 अक्टूबर 2012 को लिखा था 9 अक्टूबर 2012 को मलाला को गोली लगने के बाद उन्हें सीधे लंदन इलाज के लिए ले जाया गया था यानी उस घटना के ठीक 6 दिन बाद ज़की ख़ालिद ने यह लेख लिखा।

इस लेख में वह लिखते हैं कि ऐसे सैंकड़ो की संख्या में पाकिस्तानी बच्चे हैं जो ऑनलाइन ब्लॉग करते हैं, प्रकाशनों में डायरी लिखते हैं और टीवी पर दिखाई देते हैं। सैंकड़ों की संख्या में ऐसे बच्चे हैं जो अमेरिकी ड्रोन हमलो में घायल हुए हैं यहाँ तक कि मारे भी गए फिर मलाला ही क्यो? इसके अनेक कारण हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मलाला को शिक्षा के अधिकार के लिए अपनी लड़ाई में धीरे-धीरे युवा, महिला प्रतिरोध के खिलाफ अत्याचार और उत्पीड़न के प्रतीक के रूप में तैयार किया गया’।

पाकिस्तान में एक बड़ी आबादी है जो ये मानती है कि मलाला बड़ी खूबसूरती के साथ अंजाम दिया गया प्लांटेड प्रोजेक्ट है बताया गया कि मलाला के सिर और गर्दन में गोली लगी शरीर के इस हिस्से में गोली लगना एक तरह से मौत की गारंटी होती है। लेकिन मलाला का बच जाना आश्चर्यजनक था। दरअसल वो हमला एक योजना का हिस्सा था और उसके बाद  जिस तरह से पाकिस्तानी समाज, ओर पूरी दुनिया मे प्रतिक्रिया आयी वह यकायक सोच में डाल देती है, अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून और पूर्व ब्रिटिश प्रधान मंत्री गॉर्डन ब्राउन द्वारा तुरंत मलाला पर हमले की निंदा की गयी।

मलाला उस वक्त तक पाकिस्तान में छोटी मोटी सेलेब्रेटी बन चुकी थी 2009 की शुरुआत में, बीबीसी के एक रिपोर्टर अब्दुल कक्कड़ ने मलाला के पिता ज़ियाउद्दीन युसुफ़ज़ई से संपर्क किया और उनसे पूछा कि क्या वह किसी स्कूल जाने वाली ऐसी बोल्ड लड़की के बारे में जानते हैं जो स्वात घाटी में महिला शिक्षा के लिए खतरों के अपने अनुभवों को साझा करने के लिए तैयार है ? ज़ियाउद्दीन ने अपनी 15 वर्षीय बेटी मलाला को आगे कर दिया।

कहा तो यह भी जाता है कि मलाला के पिता ज़ियाउद्दीन युसुफ़ज़ई एक समय बहुत गरीब हुआ करते थे लेकिन पता नही कहा से उनके पास इतना पैसा आ गया जो वह स्वात घाटी में महिला शिक्षा से जुड़े स्कूलो का नेटवर्क चलाने लगे? बीबीसी ने 2009 में मलाला यूसुफजई द्वारा लिखित “द डायरी ऑफ ए पाकिस्तानी स्कूल गर्ल” को गुल मकई की बायलाइन के तहत प्रकाशित किया बाद में न्यूयार्क टाईम्स द्वारा 2009 में प्रकाशित एक वीडियो फीचर, मलाला के परिवार के जीवन का वर्णन करते हुए बनाया (अब वह क्लिप नेट से शायद हटा ली गयी है)

तबतक मलाला पाकिस्तान में काफी फेमस होने लगी थी अक्टूबर, 2011 में पाकिस्तान में वह एक सेलिब्रिटी बन गई, जब डेसमंड टूटू ने अंतरराष्ट्रीय बच्चों के पुरस्कार के लिए अपने नामांकन की घोषणा की ओर उसे उस पुरुस्कार से नवाजा गया। ज़की ख़ालिद लिखते हैं ‘मलाला को विभिन्न गैर सरकारी संगठनों द्वारा उठाया गया और ‘मोल्ड’ किया गया  ओर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर बड़े पैमाने पर मलाला की इमेज का प्रोजेक्शन किया गया। मैडोना जो न्यू वर्ल्ड ऑर्डर की ग्लैमर क्वीन थी उसने एक मेगा कंसर्ट में मलाला के नाम का अपनी पीठ पर टैटू दिखाते हुए गाना गाया जो अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में आने के लिए काफी था।

2014 में मलाला को भारत के कैलाश सत्यार्थी के साथ संयुक्त रूप नोबेल पुरुस्कार से नवाजा गया। उसके बाद बस एक बार वह कुछ दिनों के लिए 2018 में पाकिस्तान लौटी और फिर लंदन में लौट गयी जहां वह अब एक शानदार बंगले में रहती है और समय समय पर इंटरनेशनल मीडिया में भारतीय उप महाद्वीपीय समाज के सम्बंध में बयान देती है।

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)