अपनी दादी को याद कर भावुक हुए ओबामा, सोशल मीडिया पर तस्वीर शेयर कर यूं बयां की संवेदना

नई दिल्लीः अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा सौतेली दादी सारा ओबामा का निधन हो गया। उनकी उम्र 99 वर्ष थी। सारा एक परोपकारी महिला थीं, जिन्होंने लड़कियों और अनाथ बच्चों के लिये शिक्षा को बढावा दिया था। सारा की बेटी मसरत ओनियांगो के मुताबिक़ पश्चिमी केन्या के किसुमू में जारामोगी ओगिंगा ओडिंसा टीचिंग एंड रेफरल अस्पताल में इलाज के दौरान स्थानीय समयानुसार सुबह चार बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

पूर्व राष्ट्रपति ने अपनी दादी के साथ एक तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए एक संवेदना व्यक्त की है। तस्वीर को पोस्ट करते हुए ओबामा ने लिखा कि मैं और मेरा परिवार हमारी प्यारी दादी, सारा ओगवेल ओनयांगो ओबामा के शोक में विलाप कर रहे हैं, जिन्हें प्यार से कई लोग “मामा सारा” के नाम से जानते हैं, लेकिन “दानी” या दादी के नाम से जानते हैं।

ओबामा ने इस पोस्ट में बताया है कि उनकी दादी न्यानजा प्रांत में विक्टोरिया झील के किनारे  पिछली शताब्दी की पहली तिमाही में जन्मी, उनकी कोई औपचारिक स्कूली शिक्षा नहीं हुई थी। जनजातीय तरीकों से टीन एज में ही एक बूढ़े आदमी से उनकी शादी हो गई थी। ओबामा की फेसबुक पोस्ट के मुताबिक़ उनकी दादी ने अपना पूरा जीवन अलेगो के छोटे से गाँव में, मिट्टी और ईंट से बने एक छोटे से घर में बिताया। इस घर में बिजली एंव पानी फिटिंग की सुविधा भी नहीं थी। इसी मकान में उन्होंने आठ बच्चों को पाला। वे बकरियों और मुर्गियों का पालन-पोषण कर एंव खेती के माध्यम अपनी आजीविका चलातीं थीं। अपनी फसल, मवेशियों को स्थानीय बाज़ार में बेचतीं थीं।

ओबामा के मुताबिक़ हालांकि वे मेरे पिता को जन्म देने वाली मां नहीं थी फिर भी मेरी दादी ने मेरे पिता को अपने बेटे को रूप में पालन-पोषण किया, उन्हें बेटे की तरह ही प्यार और प्रोत्साहन दिया, इसकी बदौलत ही वह एक अमेरिकी विश्वविद्यालय में भाग लेने के लिए छात्रवृत्ति प्राप्त करने और अच्छे स्कूल में शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम हुए। ओबामा ने बताया कि जब हमारे परिवार में कठिनाइयाँ थीं, तब हमारे लिये उनकी गृहस्थी उनके बच्चों और नाती-पोतों की शरण थी और उनकी उपस्थिति एक स्थिर, स्थिर बल थी। जब मैंने अपनी विरासत और पिता के बारे में अधिक जानने के लिए पहली बार केन्या की यात्रा की, तब तक वे गुजर चुके थे, यह दादी ही थीं जिन्होंने अतीत में पुल का काम किया था, और यह उनकी कहानियाँ थीं जिन्होंने मेरे दिल में एक शून्य भरने में मदद की।

अपने जीवन के दौरान, ग्रैनी दुनिया भर में होने वाले परिवर्तन विश्व युद्ध, आज़ादी आंदोलनों, चंद्रमा लैंडिंग और कंप्यूटर युग के आगमन की साक्षी थीं। उन्होंने जेट विमानों पर उड़ान भरने, दुनिया भर के आगंतुकों को प्राप्त करने और अपने पोते को संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए चुने जाने को भी अपनी जिंदी में ही देखा।