इमरान खान को मिल सकती है राहत, अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग टालने के लिए बनाई ये रणनीति

पाकिस्तान की इमरान सरकार के लिए शनिवार को बड़ा दिन है. इमरान कुर्सी पर रहेंगे या जाएंगे, यह अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से तय होगा. आज सुबह नेशनल असेंबली (संसद) में कार्यवाही 11 बजे शुरू होनी थी, लेकिन 15 मिनट देरी से शुरू हुई. इमरान खान तो सदन में पहुंचे ही नहीं. स्पीकर असद कैसर के विदेशी साजिश के मुद्दे पर चर्चा करने की बात पर विपक्ष भड़क गया.

जियो न्यूज ने बताया कि सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक- ई-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी ने सांसदों को ‘विदेशी साजिश’ पर लंबा भाषण देने का निर्देश देकर कार्यवाही को बाधित करने और मतदान में देरी के लिए अपनी रणनीति तैयार की है.

जियो न्यूज से बात करते हुए सूचना और कानून मंत्री ने कहा कि विदेश सचिव सदन को “खतरे वाली चिट्ठी” पर जानकारी देंगे, इसलिए अविश्वास पर मतदान नहीं हो सकता है. इसे अगले सप्ताह तक के लिए टाल दिया जा सकता है. 

विपक्ष भी एकजुट
विपक्ष भी इमरान खान की चाल समझ रहा है. शुक्रवार रात विपक्षी गठबंधन पाकिस्तान डेमोक्रेटिक फ्रंट (PDM) की मीटिंग हुई. ‘समा न्यूज’ के मुताबिक, इसमें बिलावल भुट्टो सरकार की चालों पर गुस्से में नजर आए. उन्होंने कहा- सुप्रीम कोर्ट में हार के बावजूद भी अगर इमरान साजिश से बाज नहीं आ रहे हैं तो सबसे अच्छा तरीका यही है कि उन्हें उसी भाषा में जवाब दिया जाए जो वो समझते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.