नूरी ख़ान के बहाने अलका ने किया सिंधिया पर कटाक्ष, कहा ‘यही अन्तर होता है बड़े और छोटे नेताओं में’

नई दिल्लीः कांग्रेस की तेज तर्रार नेता और पूव विधायक अलका लांबा ने भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर कटाक्ष किया है। अलका ने सिंधिया को न सिर्फ छोटा नेता बताया है बल्कि यह फर्क भी अच्छे से समझाया है कि छोटे और बड़े नेता में क्या अंतर होता है।  दरअस्ल मध्यप्रदेश कांग्रेस की नेता नूरी ख़ान ने असम में एक जनसभा को संबोधित किया था, इस जनसंभा में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी भी मंच पर मौजूद थे। अलका ने इसी को लेकर सिंधिया पर निशाना साधा है।

क्या था पूरा मामला

दरअस्ल मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव से पहले तत्काली कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया जबलपुर आए थे। जबलपुर में उनके लिये एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया था, यह प्रेस कांफ्रेंस कांग्रेस नेता नूरी ख़ान द्वारा बुलाई गई थी, जिसे क्रमशः सिंधिया एंव नूरी ख़ान को संबोधित करना था। लेकिन अहंकार में चूर सिंधिया ने नूरी ख़ान को मंच से उतार दिया था। इस पर काफी विवाद भी हुआ, नूरी ख़ान भी भावुक हुईं लेकिन उन्होंने फिर भी पार्टी का दामन नहीं छोड़ा। अब सिंधिया भाजपा में हैं, और लगातार कांग्रेस नेताओं पर निशाने पर रहते हैं।

 

 

अलका लांबा ने नूरी द्वारा राहुल गांधी के साथ मंच साझा करने पर सिंधिया पर निशाना साधा है। उन्होंने नूरी ख़ान के ट्वीट पर टिप्पणी करते हुए कहा कि यह वही नूरी है जिसे छोटे सिंधिया ने प्रेसवार्ता के दोरान मंच से उतार कर अपमानित करना चाहा था,आज उसी महिला कार्यकर्ता को राहुल गांधी जी ने अपने मंच पर बैठा सम्मान ही नहीं दिया बल्कि उससे जनता को संबोधित करने को भी कहा. यही अन्तर होता है बड़े और छोटे नेताओं में।

क्या बोलीं नूरी

नूरी ख़ान ने ट्वीट किया था कि आज राहुल गांधी जी की मौज़ूदगी में रकीबुद्दीन अहमद जी के समर्थन में चयगॉन विधानसभा की जनता को संबोधित किया,मैं राहुल जी के साथ जनता का भी धन्यवाद अदा करती हूँ कि लाखों की संख्या में जुटे,6 अप्रैल को अपना बहुमूल्य वोट देकर रकीबुद्दीन अहमद को सफल बनायें।

अलका के ट्वीट पर नूरी ख़ान ने कहा कि सिंधिया जी की मानसिकता उस संघ से मिलती जुलती है जिसके यहां महिलाओं का सम्मान सोच से परे है Alka Lamba ! सिंधिया महिलाओं को मिल रहे सम्मान के विरोधी है यह सबूत वह मेरे साथ दुर्व्यवहार करके ही दे चुके थे,जहां महिलाओं का सम्मान होता है उसी का नाम कांग्रेस है।