ये लोग नहीं कर सकेंगे सफर, DGCA ने जारी किया आदेश

दिव्यांग पैसेंजर फ्लाइट में बैठने के लिए फिट है या नहीं, यह एयरलाइन कंपनियां नहीं तय करेंगी बल्कि डॉक्टर इसकी इजाजत देंगे। हालांकि, डॉक्टर को भी उचित कारण बताना होगा कि आखिर पैसेंजर विमान से क्यों नहीं जा सकता है। देश में एयरलाइन कंपनियों की शीर्ष नियामक नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने यह आदेश जारी किया है।

क्यों लिया गया फैसला?

गौरतलब है कि यह कदम रांची एयरपोर्ट की उस घटना के बाद आया है जहां इंडिगो ने एक दिव्यांग बच्चे को विमान में चढ़ने से मना कर दिया था, जिसके बाद इस घटना का विरोध हुआ था. इंडिगो की इस हरकत पर सख्ती दिखाते हुए DGCA ने 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था.

इंडिगो ने अपनी सफाई में कहा था कि यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए, एक दिव्यांग बच्चे को सात मई को रांची-हैदराबाद उड़ान में सवार होने की अनुमति नहीं दी गई थी. दरअसल वह बच्चा बहुत क्योंकि वह घबराया हुआ नजर आ रहा था. इसके बाद इंडिगो पर सख्ती दिखाते हुए DGCA ने 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाते हुए कहा था कि इंडिगो के कर्मचारियों का व्यवहार गलत था और इससे स्थिति बिगड़ गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.