जामिया की इस पूर्व छात्रा को अमेरिका की छह यूनिवर्सिटीज ने भेजा 100 प्रतिशत फैलोशिप का ऑफर, पढ़ें उज्‍मा खान की कहानी

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की पूर्व छात्रा उज्मा खान, जिन्होंने 2021 में एप्लाइड साइंसेज विभाग, इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय, जामिया से एमएससी इलेक्ट्रॉनिक्स कोर्स किया है, उन्हें 06 प्रतिष्ठित अमेरिकी विश्वविद्यालयों से पूरी तरह से वित्त पोषित पीएचडी करने के ऑफर मिले हैं। उन्होने नौ अमेरिकी विश्वविद्यालयों में 100 प्रतिशत फैलोशिप के लिए आवेदन किया और 6 से ही ऑफर प्राप्त किए।

उनका शोध क्षेत्र अंडरवाटर वायरलेस कम्युनिकेशन एंड सिग्नल प्रोसेसिंग होगा। उज़मा को छह अमेरिकी विश्वविद्यालयों में शोध/अध्यापन सहायक की ऑन-कैंपस जॉब के लिए मंथली स्टाइपेंड के साथ-साथ 100 प्रतिशत ट्यूशन फीस छूट की पेशकश की गई है। इन विश्वविद्यालय के नाम हैं- लेह विश्वविद्यालय; सिनसिनाटी विश्वविद्यालय; मैरीलैंड विश्वविद्यालय बाल्टीमोर काउंटी; सनी (स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यूयॉर्क) बफ़ेलो; सुनी अल्बानी और न्यू हैम्पशायर विश्वविद्यालय।

उजमा ने लेह विश्वविद्यालय को चुना है और वह अगस्त 2022 में जॉइन करेंगी। उन्हें विश्वविद्यालय द्वारा एकमुश्त रिलोकेशन अलाउंस भी दिया गया है। उन्होने कहा मैं लेह विश्वविद्यालय जॉइन कर रही हूं क्योंकि मेरी शैक्षिक योग्यता और शोध रुचि मेरे पोटेन्शल सुपरवाइजर के साथ से मेल खाती है। वह जिस वायरलेस और सिग्नल प्रोसेसिंग लैब में शामिल होने जा रही हैं, वह वर्तमान और भविष्य की तकनीकों पर अत्याधुनिक शोध कर रही है और यह उसके शोध क्षेत्र-अंडरवाटर वायरलेस कम्युनिकेशन और सिग्नल प्रोसेसिंग के लिए सबसे उपयुक्त होगी।

आईईएलटीएस और जीआरई में अच्छे अंक प्राप्त करने के बाद वह अमेरिकी विश्वविद्यालयों में आवेदन करने के एलीजिबल हुईं। जिन शोध में उनकी रुचि है, उन प्रोफेसरों को ई-मेल भेजने के बाद, उन्होंने उस प्रयोगशाला व विभाग के सदस्यों की एक समिति के साथ तकनीकी साक्षात्कार क्वालिफाई किया, जिसमें वह जाना चाहती थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.