जामिया छात्र कैफ अली ने रौशन किया देश का नाम, इंग्लैंड के ‘द डायना अवार्ड’ से नवाज़े गए कैफ

नई दिल्लीः देश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र कैफ अली को यूनाइटेड किंगडम में प्रतिष्ठित सम्मानों से एक द डायना अवार्ड 2021 से नवाज़ा गया है। इस आवार्ड को पाने वाले जामिया के कैफ अली वास्तुकला स्नातक चतुर्थ वर्ष (बी आर्क) के छात्र हैं। कैफ को ये आवार्ड कोविड के साथ बदलती दुनिया में उनके असाधारण योगदान ‘कोविड-19 इनोवेशन स्पेस एरा’ के लिए दिया गया है।

जानकारी के लिये बता दें कि ‘डायना’ प्रिंसेस ऑफ वेल्स की यादगार में स्थापित यह पुरस्कार उनके नाम पर चैरिटी द्वारा दिया जाता है। इसे उनके दोनों बेटों, द ड्यूक ऑफ कैम्ब्रिज और द ड्यूक ऑफ ससेक्स का समर्थन प्राप्त है। इस आवार्ड को सबसे प्रतिष्ठित सम्मानों में से एक माना जाता है, जिसे हर साल एक नौजवान को उसके सामाजिक कार्य अथवा मानवीय कार्यों के लिए दिया जाता है।

कैफ को सम्मान मिलने पर जामिया की वाइस चांसलर प्रोफेसर नजमा अख्तर ने इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई दी है। प्रोफेसर नज़्मा अख्तर ने कहा कि जामिया को को उन पर गर्व है। यह नवोन्मेष समय की आवश्यकता के अनुसार है और यह भी दर्शाता है कि आज की प्रतिस्पर्धी दुनिया में किसी को लीक से हटकर सोचने की जरूरत है।

गौरतलब है कि बीते वर्ष, जैसे ही कोविड-19 महामारी ने पैर पसारे, कैफ ने शोध करना शुरू किया कि कैसे वास्तुकला बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद कर सकती है। उन्होंने एक पूर्वनिर्मित टिकाऊ आश्रय तैयार किया, उनके द्वारा तैयार किया गया आश्रय केवल वायरस के संचरण को कम करने में मदद करेगा बल्कि भविष्य में दुनिया भर में शरणार्थियों को भी घर दे सकता है।

कैफ के मुताबिक़ उनका डिजाइन अब नाइजीरिया के लागोस में प्रयोग किया जा रहा है, जिसे भारत सरकार, राष्ट्रमंडल राष्ट्रों और संयुक्त राष्ट्र द्वारा जलवायु कार्रवाई को सुलझाने वाले टॉप 11 उभरते इनोवेशन स्टार्ट-अप के तहत सराहा गया है। कैफ ने एक बेहतर दुनिया के निर्माण के लिए वास्तुकला का उपयोग करने और युवा पीढ़ी को संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों के लिए प्रेरित करने की उम्मीद करते हैं।