Saturday, December 4, 2021

देशद्रोह का सर्टिफिकेट बांटने वालों को सुप्रीम कोर्ट ने दिखाया आइना

Must Read

देश की सर्वोच्च अदालत ने आज उन लोगों को आइना दिखा दिया जो बात-बात पर लोगों को देशद्रोही होने का सर्टिफिकट पकड़ा देते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने आज एक सुनवाई के दौरान कहा कि सरकार से अलग राय रखना देशद्रोह नहीं है.

पूरा मामला समझिए आखिर सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा क्यों कहा. दरअसल जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉंफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी. याचिका में कहा गया था कि फारूक अब्दुल्ला ने देश विरोधी और देशद्रोही कार्यवाही की है. उनके खिलाफ ना केवल गृह मंत्रालय को कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए बल्कि उनकी संसद सदस्यता भी रद्द की जाए.

- Advertisement -

याचिकाकर्ता का आरोप था कि फारूक अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर अनुच्छेद-370 की बहाली के लिए चीन से मदद लेने की बात कही थी. इस आरोप को नेशनल कॉन्फ्रेंस ने खारिज कर दिया था.

याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि सरकार से अलग राय रखना देशद्रोह नहीं है. इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. कोर्ट ने ये जुर्माना याचिकाकर्ता की इस दलील को साबित ना कर पाने पर लगाया कि फारूक अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370 पर भारत के खिलाफ चीन और पाकिस्तान की मदद मांगी थी.

Leave a Reply

- Advertisement -

Latest News

- Advertisement -

More Recipes Like This

- Advertisement -