मुरादनगर हादसाः सपा विधायक आशू मलिक बोले, सरकारी तंत्र की लापरवाही की वजह से गईं इतने लोगों की जान

नई दिल्लीः  बीते रोज़ दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद के मुरादनगर में श्मशानघाट की छत गिरने से 24 लोगों की जान चली गई। इस हादसे के बाद विपक्षी पार्टियों ने सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधा है। स्थानीय निवासी और सपा विधायक (एमएलसी) आशू मलिक ने इस हादसे को सरकारी तंत्र की लापरवाही करार दिया है। उन्होंने कहा कि श्मशान घाट हादसे से दिल बड़ा विचलित है दुखी है मैं लखनऊ में हूं जिसके कारण घटनास्थल पर नहीं पहुंच सका दुख की इस घड़ी में हम सभी पीड़ित शोकाकुल परिवारों के साथ है।

सपा विधायक ने कहा कि मैं मृतकों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं ईश्वर इन सभी दिवंगतो  की आत्मा को शांति दे और ईश्वर इन सभी के परिजनों को सब्र दे यह दुख सहने की शक्ति और हिम्मत दें और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। उन्होंने कहा कि मेरी वर्तमान सरकार से यह मांग है मामले की निष्पक्ष और उचित जांच हो और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई हो इस घटना में मरने वाले सभी अत्यंत ही गरीब परिवार के हैं जिस बरामदे का लेंटर गिरा है वह दो महीने पहले ही नगर पालिका द्वारा बनवाया गया है जो सरकारी तंत्र की लापरवाही है।

आशू मलिक ने कहा कि इस दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिवारों को 2500000 रुपए का मुआवजा व एक सरकारी नौकरी की व्यवस्था सरकार को जल्द ही करनी चाहिए ताकि पीड़ित परिवार अपना  घर चला सके और घायलों को ₹1000000 मुआवजा और उचित इलाज की व्यवस्था सरकार करें। बता दें कि यह मुरादनगर का यह श्‍मशान घाट बेहद दयनीय हालत में था। इसका जीर्णोद्धार कराए जाने के लिए 50 लाख रुपये का ठेका अजय त्यागी नाम के ठेकेदार को दिया गया था। जिस बरामदे का लिंटर गिरने से यह हादसा हुआ, वह बरामदा भी इसी टेंडर के तहत दो महीने पहले ही बना था।