गरीब व जरूरतमंदों को स्वास्थ्य का लाभ पहुंचाना हमारी संस्था का उद्देश्य: मूसा कासमी

चरथावल: ग्राम नंगला राई में हिदाया एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के सौजन्य से निःशुल्क चिकित्सा शिविर आयोजन किया गया जिसका उदघाटन कांग्रेस नेता व पूर्व सांसद हरेन्द्र मलिक व जमीयत नेता हाफ़िज़ फुरकान असअदी ने फीता काटकर किया शिविर में  मेडिकल कॉलेज के सहयोग से विभिन्न बीमारियों के इलाज एवं मुफ्त में जांच की गई।

चरथावल विकासखण्ड के ग्राम नगला राई  स्थित जामिया अल हिदाय जामिया नगर में हिदाया एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के तत्वाधान में निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन गया जिसमें क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने भाग लेकर कैंप से फायदा उठाया।मेडिकल कैंप में जमीयत उलेमा वेस्ट यूपी के उपाध्यक्ष हाफिज मोहम्मद फुरकान असअदी,पूर्व सांसद हरेन्द्र मलिक व मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज के जनरल मैनेजर डॉ अरशद इकबाल व  प्रधान अफ़सरून ने कार्यक्रम में शिरकत की इस अवसर पर हिदाया ट्रस्ट के डायरेक्टर मौलाना मूसा कासमी ने कैंप के बुनियादी मकसद पर रोशनी डालते हुए कहा कि हमारा मकसद गरीब और जरूरतमंदों को स्वास्थ्य का लाभ पहुंचाने का है जिसमें शुगर,ब्लड टेस्ट,ऑर्थो जनरल सर्जरी आंखों के टेस्ट,हड्डी रोग,बाल रोग,स्त्री रोग समेत विभिन्न बीमारियों का इलाज और जांच बिल्कुल मुफ्त में कराये गए इसके अलावा सभी मरीजों को दवाई भी निशुल्क बांटी गई।

शिविर में  मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज का योगदान रहा आज के इस मेडिकल चिकित्सा शिविर  दो दर्जन से ज्यादा डॉक्टरों की टीम ने सेवाएं प्रदान की मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज के जनरल मैनेजर डॉ अरशद इकबाल ने कहा कि जिन लोगों ने चिकित्सा शिविर में भाग लिया उनके लिए आगे के इलाज में भी छूट दी जाएगी और हर बड़ी जांच में उनको छूट मिलेगी उन्होंने कहा कि लोगों को अच्छा इलाज प्रदान कराना हमारा मिशन है।  पूर्व सांसद हरेन्द्र मलिक ने कहा कि दुनिया का यह उसूल है कि जिंदगी गुजारने में एक दूसरे के सहयोग की जरूरत होती है जरूरतमंद लोगों की जरूरतों को पूरा करना और बुरे समय में किसी के काम आना यह स्वस्थ समाज की एक निशानी है उन्होंने कहा कि मैं हिदाया ट्रस्ट के जिम्मेदार लोगों को इस नेक काम के लिए बधाई देता हूं।हाफिज मोहम्मद फुरकान असअदी ने कहा इंसानों से प्यार मोहब्बत करना और जरूरतमंदों की मदद करना हर धर्म और मजहब में अच्छी निगाह से देखा जाता है दीन ए इस्लाम ने इंसानियत की सेवा करने को बेहतरीन अखलाक और अजीम इबादत करार दिया है हदीस में है कि लोगों में बेहतर वह लोग हैं जो दूसरों के काम आए।

उन्होंने कहा कि दूसरे के काम आना एक अच्छे समाज की एक स्वस्थ समाज की निशानी है जो समय पर दवाई न मिलने के कारण आत्महत्या को मजबूर हो जाते हैं।इस अवसर पर हाफ़िज़ फुरकान असअदी,पूर्व सांसद हरेन्द्र मलिक,डॉ0 अरशद इक़बाल,गुफरान काज़मी,मौलाना अहसान क़ासमी,मौलाना मूसा क़ासमी,हाजी मतलूब राईन,प्रधान मौ०अफ़सरून,एजाज़ अहमद राईन,कलीम त्यागी,मौलानाताहिर क़ासमी,मौलाना सदाक़त अली,इकराम क़ससार,वासिफ आढ़ती,कारी शुऐब आलम,मौलाना जुनैद,हाजी अब्दुल क़ादिर राही,डॉ० शाहफ़ैज़,डॉ०शुऐब आलम,मास्टर फुरकान आदि मौजूद रहे।