संजय सिंह का CM योगी से सवाल, ‘कितने लोगों को आतंकवादी कहोगे? कितने लोगों को देशद्रोही कहोगे?’

लखनऊः आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एंव राज्यसभा सांसद संजय ने कोरोना वैक्सीन मुफ्त देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि सब को कोरोना वेक्सीन फ्री में और जल्द से जल्द मिलनी चाहिए, ठीक वैसे ही जैसे पोलियो की वैक्सीन हर आम आदमी को मुफ्त मुहैया हुई थी। आम आदमी पार्टी के नेता ने ये बातें एक प्रेस कांफ्रेंस में कही। उन्होंने यूपी की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि नई स्मार्ट बिजली मीटर की रिपोर्ट सामने आई है कि वह 30% से ज्यादा तेज चलता है और 2 साल से यह स्मार्ट मीटर चल रहे हैं। अगर किसी ने पिछले 2 साल में 200000 का बिजली बिल भरा है, इसका मतलब है कि उन्होंने 60,000 रुपए ज्यादा चुकाए हैं।

संजय सिंह ने कहा कि सरकार के अपने सर्वे में भी 60% जनता ने माना है कि उनके बिजली के मीटर तेज भाग रहे हैं, इससे साबित होता है कि उत्तर प्रदेश की योगी  सरकार द्वारा लगाए गए बिजली मीटर वास्तविकता में स्कैम मीटर हैं। उन्होंने कहा कि यह सरकार इस घोटाले वाला मीटर को उत्तर प्रदेश के और भी ज्यादा घरों में लगाना चाहती हैं, 1200000 बिजली के मीटर पहले ही लग चुके हैं और इनका लक्ष 5000000 मीटर लगाने का है।

संजय सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी की मांग है कि बिजली उपभोक्ताओं से जो ज्यादा पैसा लिया गया है वह उनको ब्याज़ सहित वापस दिया जाए अगर UP की सरकार ऐसा नहीं करती है तो आम आदमी पार्टी पूरे UP में इस बिजली मीटर के भ्रष्टाचार को लेकर व्यापक आंदोलन करेगी।

किसान आंदोलन पर बात करते हुए संजय सिंह ने कहा कि आज एक दुःखद समाचार आया है, बागपत के किसान ने दिल्ली-बॉर्डर पर आत्महत्या कर ली है, केंद्र की सरकार और उत्तर प्रदेश की सरकार बार-बार कह रही थी कि आंदोलन केवल पंजाब और हरियाणा का है जबकि यह मुद्दा पूरे देश का है। उन्होंने कहा कि यह जो शहादत है वह बागपत, उत्तर प्रदेश के किसान ने दी है, मैं योगी जी और मोदी जी से सवाल पूछना चाहता हूँ कि अब इस पर क्या बोलोगे?  कितने लोगों को आतंकवादी कहोगे? कितने लोगों को देशद्रोही कहोगे और कितने किसानों को मारोगे, पिटोगे या उनकी आंखे फोड़ोगे?

संजय सिंह ने कहा कि इस सरकार को अब नींद से जाग जाना चाहिए क्योंकि अगर किसान और ज्यादा आक्रोशित हुआ तो इन सरकारों को लेने के देने पड़ जाएंगे, अब कोई गलतफहमी में ना रहे हैं क्योंकि जनता ने काफी बार बड़ी-बड़ी सरकारों को उखाड़कर फेंक दिया है। उन्होंने कहा कि मैं मोदी जी से कहना चाहता हूं कि किसानों के मुद्दे का समाधान लाइए और यह तीनों काले कानून वापस लीजिए क्योंकि किसानों को समझ में आ गया है कि मोदी सरकार ने किसानों के डेथ वारंट पर साइन कर दिया है।