ग्राहकों से जबरदस्ती सर्विस चार्ज वसूलने वालों की अब खैर नहीं, सरकार उठाने जा रही है ये कदम

रेस्टोरेंट्स और होटल में ग्राहकों से सर्विस चार्ज (Service Charge) वसूलने पर केंद्र सरकार (Modi Government) सख्त हो गई है. सरकार जल्द इस मामले में एक दिशा-निर्देश (Guidelines) जारी करेगी. सरकार, रेस्टोरेंट एसोसिएशन और उपभोक्ता संगठनों के बीच इस मामले को लेकर एक मीटिंग हुई है.

सरकार ने होटल और रेस्टोरेंट एसोशिएशन के प्रतिनिधियों को ग्राहकों से मिल रही शिकायतों से अवगत कराया. सरकार ने बताया कि मेन्यू में ही सर्विस चार्ज को ग्राहकों की सहमति लिए बिना जोड़ दिया जाता है. सरकार ने साफ किया कि सर्विस चार्ज वैकल्पिक और ऐच्छिक है न कि अनिवार्य.

सर्विस चार्ज क्या होता है?
जब आप किसी प्रोडक्ट या सर्विस को खरीदते हैं तो उसके लिए कुछ पैसे देने पड़ते हैं. इसे ही सर्विस चार्ज कहते हैं. यानी होटल या रेस्टोरेंट में खाना परोसने और दूसरी सेवाओं के लिए ग्राहक से सर्विस चार्ज लिया जाता है. ग्राहक भी होटल या रेस्टोरेंट से बिना सवाल-जवाब किए सर्विस चार्ज के साथ पेमेंट कर देते हैं. हालांकि ये चार्ज ट्रांजैक्शन के समय ही लिया जाता है, न की सर्विस लेते वक्त.

Leave a Reply

Your email address will not be published.