समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद का तंज, ‘EVM होती तो ट्रम्प ही होते’

नई दिल्लीः  बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के हथियारबंद समर्थक यूएस कैपिटल बिल्डिंग में घुस गए। इस बिल्डिंग में अमेरिकी कांग्रेस के लोग बैठते हैं। अमेरिकी कांग्रेस बाइडन की जीत की पुष्टि के लिए बैठी थी तभी ट्रंप समर्थकों ने हमला कर दिया, इसमें एक महिला समेत चार लोगों की मौत भी हो गई है। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप को हार का सामना करना पड़ा था, और अमेरिकी जनता ने अगले राष्ट्रपति के रूप डो बाइडन को चुना है, उन्हें बीस जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेनी।

अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में धांधली का आरोप लगा रहे हैं, हालांकि उनके आरोपों को चुनाव अधिकारियों ने खारिज कर दिया है। इसके बावजूद ट्रंप लगातार अपने आरोपों पर डटे हुए हैं। बुधवार को उनके समर्थकों ने यूएस कैपिटल बिल्डिंग पर हमला कर दिया था। दुनिया के सबसे शक्तिशाली लोकतंत्र में बुधवार को घटी इस घटना ने अमेरिका के ऊपर जग हंसाई का मौक़ा दे दिया है। अमरेका में घटी हिंसक घटनाओं को लेकर जहां पीएम मोदी ने इसकी निंदा की है, वहीं समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद जावेद अली ख़ान ने सोशल मीडिया पर टिप्पणी करते हुए तंज किया है। उन्होंने तंज करते हुए कहा कि EVM होती तो ट्रम्प ही होते।

बता दें कि भारतीय लोकतंत्र में ईवीएम को लेकर अक्सर सवाल उठते रहे हैं। ये सवाल सबसे पहले भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने उठाए थे उसके बाद से भारत में होने वाले हर चुनाव के नतीजे के बाद ईवीएम को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं। समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद रहे जावेद अली ख़ान ने मोनो रेल का ठेका चाईना की कंपनी को दिये जाने पर भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि एशियाई बैंक की क़र्ज़ देने की शर्त दिल्ली- मेरठ, दिल्ली- पानीपत व पुणे मेट्रो चीन की कम्पनी बनायेगी बेचारी ‘मज़बूत’ राष्ट्रवादी सरकार मजबूर हुई.चीन के आर्थिक बहिष्कार का सिद्धांत फ़िलहाल तेल लेने गया।