एक कैदी जिसने जेल के अंधेरे में चमकाया अपना भविष्य, आईआईटी जेएएम परीक्षा में हासिल किया 54वां रैंक

किसी अपराध या आरोप में जेल गए व्यक्ति को लोग घृणित भावना से देखते हैं. जबकि किसी भी अपराधी को उसकी गलतियां और सोच सुधारने के लिए जेल भेजा जाता है. अगर कोई अपराधी या आरोपी जेल में रहते हुए कुछ बेहतर करता है तो ये एक तरह से कानून व्यवस्था की जीत मानी जाती है. कानून की एक ऐसी ही जीत बिहार की एक जेल में देखने को मिली है, जहां एक कैदी ने जेल में रहते हुए आईआईटी (IIT) की ज्वाइंट एडमिशन टेस्ट फॉर मास्टर्स (JAM-जैम) की परीक्षा में सफलता हासिल की है. आईआईटी रुड़की (IIT Rurkee) द्वारा आयोजित इस परीक्षा में उसने ऑल इंडिया में 54वीं रैंक हासिल की है.

जेल में बंद कैदी छात्र ने रचा इतिहास
हत्या के मामले में जेल में बंद सूरज कुमार उर्फ कौशलेंद्र ने जेएएम 2022 में सफलता हासिल की है. आईआईटी रुड़की की ओर से आयोजित इस परीक्षा में उसे 54वीं आल इंडिया रैंक हासिल हुई है. विचाराधान बंदी सूरज वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के मोसमा गांव का रहने वाला है और तकरीबन एक साल से एक हत्या के मामले में जेल में बंद है. मंडल कारा नवादा में रहते हुए ही उसने परीक्षा की तैयारी की. परीक्षा की तैयारी में जेल प्रशासन ने सूरज उर्फ कौशलेंद्र की इसमें काफी मदद की. कड़ी मेहनत और लगन से उसने जेल में रहते हुए उसने परीक्षा की तैयारी की.

अप्रैल 2021 में गया था जेल
सूरज हत्या के एक आरोप में अप्रैल 2021 से जेल में है. दरअसल नवादा जिले के वारिसलीगंज प्रखंड के मोसमा गांव में रास्ता विवाद को लेकर दो परिवारों के बीच जमकर मारपीट हुई थी. अप्रैल 2021 को हुई मारपीट में संजय यादव बुरी तरह जख्मी हो गए थे. इलाज के लिए पटना ले जाने के क्रम में उनकी मौत हो गई थी. तब मृतक के पिता बासो यादव ने सूरज, उसके पिता अर्जुन यादव समेत नौ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी. 19 अप्रैल 21 को पुलिस ने सूरज समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, तभी से सूरज जेल में बंद है.

पिछले साल भी मिली थी सफलता लेकिन…
खास बात ये है कि सूरज ने पिछले साल भी इस परीक्षा को पास किया था और उसे ऑल इंडिया में 34वीं रैंक मिली थी, लेकिन ऐन वक्त पर मर्डर की इस घटना में वो फंस गया. जेल जाने के बाद भी सूरज के हौसले कम नहीं हुए और आज उसने जेल में रहते हुए यह कारनामा फिर से कर दिखाया है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.