लाउडस्पीकर विवाद पर मोदी के मंत्री ने बीजेपी-राज ठाकरे को दिखाया आईना

- Advertisement -

दिल्ली, महाराष्ट्र समेत देश के कई राज्यों में लाउडस्पीकर को लेकर विवाद चल रहा है. लाउडस्पीकर के मुद्दे पर जारी राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है. इस विवाद में अब एक नया मोड़ आ गया है.

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने लाउडस्पीकर विवाद को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में  लाउडस्पीकर को लेकर राजनीति करना ठीक नहीं है. कई सालों से मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगे हैं. लाउडस्पीकर को लेकर क्या करना है इस पर मुस्लिम समाज विचार कर सकता है लेकिन मुझे लगता है कि एक धर्म के लोगों को दूसरे धर्म का आदर-सम्मान करना चाहिये.

- Advertisement -

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि नवरात्र और अन्य उत्सवों पर लाउडस्पीकर चलते हैं. मस्जिद के लाउडस्पीकर निकालने की राज ठाकरे की भूमिका का हम विरोध करते हैं. राज ठाकरे को अगर मंदिर पर भी लाउडस्पीकर लगाने हैं तो वो लगा सकते हैं. अगर मस्जिद के लाउडस्पीकर निकाले जाते हैं तो रिपब्लिकन पार्टी विरोध करेगी.

Latest

राकेश कायस्थ का लेख: हिंदू हार रहा है…

हिंदी के सुपरिचित लेखक राजकिशोर ने एक बार लिखा...

फल विक्रेता का बेटा उमरान मलिक कैसे बना IPL सनसनी, किस तरह पाई टीम इंडिया में जगह

श्रीनगर: इंडियन प्रीमियर लीग में कहरपाती गेंदबाज़ी से बल्लेबाज़ों को...

रवीश का लेख: रतन लाल जैसे दलितों को बोलने दीजिए

क्या आज के दौर में दयानंद सरस्वती कह पाते...

Newsletter

Don't miss

राकेश कायस्थ का लेख: हिंदू हार रहा है…

हिंदी के सुपरिचित लेखक राजकिशोर ने एक बार लिखा...

फल विक्रेता का बेटा उमरान मलिक कैसे बना IPL सनसनी, किस तरह पाई टीम इंडिया में जगह

श्रीनगर: इंडियन प्रीमियर लीग में कहरपाती गेंदबाज़ी से बल्लेबाज़ों को...

रवीश का लेख: रतन लाल जैसे दलितों को बोलने दीजिए

क्या आज के दौर में दयानंद सरस्वती कह पाते...

राकेश कायस्थ का लेख: हिंदू हार रहा है…

हिंदी के सुपरिचित लेखक राजकिशोर ने एक बार लिखा था-- "मुस्लिम पक्ष अगर राज जन्म भूमि अगर हिंदुओं को सौंप दे तो यह एक...

फल विक्रेता का बेटा उमरान मलिक कैसे बना IPL सनसनी, किस तरह पाई टीम इंडिया में जगह

श्रीनगर: इंडियन प्रीमियर लीग में कहरपाती गेंदबाज़ी से बल्लेबाज़ों को मुश्किल में डालने वाले तेज गेंदबाज उमरान मलिक का दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले जाने...

रवीश का लेख: रतन लाल जैसे दलितों को बोलने दीजिए

क्या आज के दौर में दयानंद सरस्वती कह पाते कि मूर्ति पूजा के विरोधी हैं? दयानंद सरस्वती ने काशी में पर्चा तक लगवा दिया...

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here