क्या मोबाइल के इस्तेमाल से होता है ब्रेन ट्यूमर? रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

माना जाता है कि मोबाइल फोन (Mobile phone) के अधिक इस्तेमाल से स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है. कुछ लोगों का मानना है कि इसके रेडिएशन (Mobile phone Radiation) का दिमाग पर सीधा असर पड़ता है. जिससे ब्रेन ट्यूमर होता है. हालांकि यह सही नहीं है.

बड़े पैमाने पर किए गए एक नए शोध में पता चला है कि मोबाइल फोन के इस्तेमाल (Mobile phone use) से ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumour) का खतरा नहीं बढ़ता है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर के जर्नल में 29 मार्च, 2021 को ऑनलाइन प्रकाशित सेलुलर टेलीफोन उपयोग और ब्रेन ट्यूमर के जोखिम पर यूके मिलियन वुमन स्टडी में इक्ट्ठा किए गए साक्ष्य से पुष्टि होती है कि सामान्य परिस्थितियों में सेलुलर टेलीफोन का उपयोग ब्रेन ट्यूमर की घटनाओं में बढ़ोतरी नहीं करता है.

स्टडी में क्या निकला
रिसर्च में पता चला कि जिन लोगों ने मोबाइल फोन का इस्तेमाल कभी नहीं किया, उनकी तुलना में मोबाइल का यूज करने वालों में ब्रेन ट्यूमर का कोई खतरा नहीं होता. रिसर्चर्स ने निष्कर्ष निकाला कि मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने वालों और नहीं करने वालों के बीच ब्रेन ट्यूमर होने के रिस्क में कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं था. इसके अलावा जिन लोगों ने 10 साल से ज्यादा समय तक रोजाना मोबाइल यूज किया, उनमें भी किसी तरह का कोई ट्यूमर (Tumour) नहीं हुआ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.