करौली कांड का असली सच क्या है?

राजस्थान के करौली शहर में शनिवार को हिंदू नव वर्ष के मौके पर हिंदू संगठनों ने बाइक रैली का आयोजन किया था. बाइक सवारों ने भगवा झंडे हाथ में लिए हुए थे. लेकिन यात्रा में निकले लोगों के हाथों में सिर्फ भगवा झंडा ही नहीं था बल्कि डीजे भी था.

डीजे में जो गाना बज रहा था वो भड़काने वाला था. डीजे बज रहा था “टोपी वाला भी सर झुका के जय श्री राम बोलेगा”. भद्देपन की स्केल पर 0 से 10 की रेटिंग में ये गाना कहां ठहरेगा, इसका फैसला आप खुद करें. वीडियो को गौर से देखने पर देखेंगे कि भीड़ पर पत्थर गिराए गए. इसके बाद मोटर साइकिल रैली में शामिल लोगों ने भी पथराव किया. इसके बाद दोनों तरफ से संघर्ष हुआ और नुकसान उनका हुआ, जिनकी इस फसाद में कहीं कोई भूमिका नहीं थी. दुकानें और गाड़ियां जला दी गईं.

गाड़ियों और दुकानों में लगी आग फैलने लगी. मकानों ने आग पकड़ ली. 2 अप्रैल को जब तक पर्याप्त संख्या में पुलिस बल दंगा स्थल पर पहुंचा, तब तक दो दर्जन लोगों चोटें आई थीं. तत्काल कर्फ्यू लगा दिया गया और इंटरनेट सेवाएं रोक दी गईं. साढ़े छह सौ पुलिस जवानों को करौली भेजा गया. नेता अपने काम पर लगे हुए हैं. बयान दे रहे हैं.

ताज़ा अपडेट ये है कि 46 उपद्रवी गिरफ्तार किए गए हैं और 7 लोग हिरासत में हैं. हिंसा में हुए नुकसान का हिसाब लगाया जा रहा है. कम से कम डेढ़ दर्जन दुकानें पूरी तरह खाक हो गई हैं. करौली को किला बना दिया गया है. और सशस्त्र पुलिस की टुकड़ियां सड़कों पर उतार दी गई हैं. ड्रोन से निगरानी चल रही है और वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी शहर में कैंप किए हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.