यूपी पुलिस के डीजीपी हटाए गए, इस वजह से हुई कार्रवाई

लखनऊ. योगी सरकार ने एक बार फिर बड़ा फैसला करते हुए यूपी के डीजीपी मुकुल गोयल को हटा दिया गया है. अब उनका कार्यभार एडीजी प्रशांत कुमार को सौंपा गया है. बताया जा रहा है कि मुकुल गोयल को शासकीय कार्यों की अवहेलना, विभागीय कार्यों में रुचि न लेने और कार्यों में ढिलाई के चलते हटाया गया है. अब मुकुल गोयल को डीजीपी पद से मुक्त करते हुए डीजी नागरिक सुरक्षा के पद पर भेजा गया है.

यह पहली बार हुआ है जब किसी डीजीपी पर अकर्मण्यता का आरोप लगाते हुए सीधे डीजी नागरिक सुरक्षा के पद पर भेजा गया है. इससे पहले कई डीजीपी हटाए गए लेकिन उन्हें अकर्मण्यता के आरोप के चलते सीधे नागरिक सुरक्षा के पद पर नहीं भेजा गया.

सपा सरकार में वर्ष 2013 में मुकुल गोयल को एडीजी कानून-व्यवस्था बनाया गया था. पूरे चुनाव के दौरान पुलिस के मुखिया की जो नेतृत्व क्षमता दिखनी चाहिए थी, वह भी न दिखने के कारण शासन नाराज चल रहा था.

कौन बनेगा यूपी का नया डीजीपी?

गौरतलब है कि डीजीपी मुकुल गोयल के पद से हटते ही कई नामों पर कयास लगाए जाने लगे हैं. आईपीएस आरके विश्वकर्मा, जीएल मीणा, आरपी सिंह और डीएस चौहान नए डीजीपी बनने की रेस में सबसे आगे हैं.

पहली बार किसी DGP को ऐसे आरोप में हटाया गया

जान लें कि यह पहला मौका है जब किसी डीजीपी को इस तरह के आरोप में हटाया गया है. मुकुल गोयल को अब डीजी नागरिक सुरक्षा के रूप में तैनात किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.